Indore News: नगर निगम के लिए थी आफत, उमंग ग्रुप को बुजुर्गो में नज़र आई बरकत


बीते दिनों, सीनियर सिटीजन्स के साथ हुए दुर्व्यवहार को लेकर इंदौर ने राष्ट्रीय स्तर पर काफी थू थू बटोरी थी| ये सवालिया निशान सिर्फ नगर निगम पर नहीं बल्कि नगर वासियों की छवि पर भी लगा था| लेकिन इन्दोरी तहजीब और ज़िन्दगी जीने के इन्दोरी स्टाइल कैसा है, यहाँ के लोग कैसे हैं, इसका नज़ारा करवाया शहर के उमंग ग्रुप ने| “ दिल की बातें अपनों के साथ” का सन्देश लिए, पिंक और रेड की थीम में रच बस के  बुजुर्गों के साथ वैलेंटाइन डे सेलिब्रेट किया|

सीनियर सिटीजन महिलाओ की टोली उस समय सरप्राइज रह गयी, जब उमंग ग्रुप के युवा सदस्यों ने “ए मेरी जोहरा-जबी, और फूल तुम्हे भेजा है खत में” जैसे कालजयी गानों पर आधुनिक अंदाज़ में नृत्य किया| इस सेलिब्रेशन के दौरान तम्बोला सहित कई खेलो का भी आयोजन किया गया| बुजुर्गो की टोली का प्रतिनिधत्व किया  मनोरमा अग्रवाल, त्रिशला जी जैन, रम्बाला जी अग्रवाल, गायत्री जी गर्ग और लता जी मोदी ने| नृत्य और बलून गेम में उनके कंधे से कन्धा मिलाया उमंग ग्रुप के बाकी सदस्यों ने|



ज़िन्दगी का दूसरा नाम सेलिब्रेशन है और त्यौहार और त्यौहार हमें बहाना देते हैं की हम ज़िन्दगी को सही मायनों में सेलिब्रेट कर सके, उमंग ग्रुप के युवाओ ने वैलेंटाइन डे के रीति रिवाजों को बुजुर्गो के साथ सेलिब्रेशन से जोड़ दिया| इस अवसर पर केक कटिंग की गयी, जैसा की वैलेंटाइन में होता है, एक दूसरे को गिफ्ट दिए गए और विक्टोरिया लाइब्रेरी के फुसफुसाते और सहमे से गलियारों ने जी खोल कर युवाओ और बुजुर्गो के इस संगम का आनंद उठाया|

इस कार्यक्रम में थोडा सा सास बहु का भी एंगल भी था, उमंग ग्रुप के सदस्यों ने सन्देश दिया की सास भी माँ के समान होती है| कार्यक्रम की मुख्य थीम बड़े शायराना अंदाज़ में कही गयी, इसका मज़मून कुछ यूँ है|

खुशिया जमीन से उगती हो... या बरसती हो आसमान से,,

 किसी से बाँट लो... फिर देखो  बरकतें इनकी....

Post a Comment

Previous Post Next Post