Indore News: स्टेट प्रेस क्लब के आयोजन में इंदौर में पत्रकारिता के बासमती चावल और Citizen Journalism ताज़ी उबलती कढाई

 



Indore News:  इंदौर में पत्रकारिता के बासमती चावल और Citizen Journalism ताज़ी उबलती कढाई

पिछले साल अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक चैनल पर आरोपित  टी आर पी कारस्तानी और उससे पहले चुनावो के दौरान Desperate Reporting की आलोचना झेल रहे मीडिया जगत के लिए पिछला साल एक काला अध्याय बन गया है| इसमें कोई शक या शुबहा नहीं है की पोपुलर टीवी चैनल के मंचो पर बैठे एंकर और कार्यकर्मों की लोकप्रियता पाकिस्तान के सेंसर बाज़ार से भी ज्यादा तेज़ी से गिरी है| आज टीवी चैनल्स और लोकप्रिय समाचार पत्रों को विश्वसनीय होने के प्रमाण देने पड़ रहे हैं| मगर इंदौर शहर इस मामले में भाग्यशाली है क्यूंकि आज भी यहाँ कुछ ऐसी मीडिया संस्थाए कार्यरत है जिन्होंने पिछले कई वर्षो हर दौर और हर नस्ल के कातिलो से जम कर लोहा लिया और अपनी सटीक और स्वच्छ पहचान बनाए रखी|

 स्टेट प्रेस क्लब ने आयोजित किया तीन दिवसीय पत्रकारिता महोत्सव

इंदौर पत्रकारिता जगत के कुछ दिग्गज पत्रकार और उदीयमान चेहरे नज़र आये इस त्रिदिवसीय पत्रकारिता महोत्सव में जहाँ ईमानदार पत्रकारिता की शाश्वत बहती सरस्वती को त्वरित पत्रकारिता और नागरिक पत्रकारिता के सागर से जोड़ने की नहर बनाई इंदौर पत्रकारिता जगत के कुछ गणमान्य पत्रकारों ने| इस आयोजन के पीछे छिपी थी स्टेट प्रेस क्लब के अध्यक्ष कप्तान प्रवीण खारीवाल की बेलाग सोच जहाँ वो पत्रकारिता को ज़िम्मेदार प्रोफेशनलिज्म से जोड़ना चाहते हैं|

इंदौर पत्रकारिता जगत में खारीवाल जी  के स्वर्णिम हस्ताक्षर को एक आदमकद पुष्पमाला पहना कर उनका उनका अभिनन्दन किया गया|   साप्ताहिक भास्कर समाचार सेवा के संपादक political point नेशनल हिंदी मासिक पत्रिका लखनऊ के मध्य प्रदेश के ब्यूरो , अजय जी .चौधरी (बीकॉम  एमबीए एलएलबी अध्ययन )साथ में युवा पत्रकार राहुल लोदवाल- (BSC MSC BJMC - Bachelor of journalism & Mass Communication ) व युवा पत्रकार एवं प्रेस फोटोग्राफर नयन काकने ( BBA , बीजेएमसी (अध्ययनरत)के द्वारा पत्रकार एवं पीआरओ पत्रिका इंदौर के जनसंपर्क अधिकारी गणेश चौधरी के अनुसार ये आदमकद पुष्प माला विचारो की सुन्दरता और खुशबू को परिभाषित करती है जो खारीवाल जी ने अपने शब्दों और विचारो के ज़रिये जन जन तक पहुंचाई है|



इक्कीसवी सदी के दूसरे दशक में मीडिया का चेहरा बदल रहा है, पिछली बार अमेरिका में हुए चुनाव ने दर्शा दिया की वहां के बड़े टेलीविज़न चैनल और समाचार पत्र किस तरह बेअसर साबित हुए थे| आप कल्पना नहीं कर सकते इस चुनाव के दौरान राष्ट्रपति ट्रम्प को पोर्न कलाकारों से जोड़ा गया, उनका चरित्र हनन हुआ, पीत पत्रकारिता का युग लौटा, बाकी चैनल्स ने सी वोटर सर्वे से लेकर जेड वोटर सर्वे तक ट्रम्प को हारा हुआ डिक्लेअर किया, इसके बाद भी ट्रम्प जीत गए| इसका कारण था सिटीजन journalism, सोशल मीडिया और यू-ट्यूब पर चल रहे चैनल्स ने लगातार अमेरिका की राजपत्रित Mainstream Media से जम कर लोहा लिया और उनके सारे सच्चे झूठे प्रचारों को गलत साबित कर उन्हें धूल चटाई| इंदौर में स्टेट प्रेस क्लब द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम को भी मीडिया की इस नयी विधा से जोड़ा जा सकता है| यहाँ कई ऐसे बेवाक पत्रकारो ने अपने विचार रखे जो धारा के विरुद्ध बहने का माद्दा रखते थे और आज भी धारा के विरुद्ध बह कर लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को नया गौरव दिलवा सकते हैं|
कार्यक्रम के संयोजक सुदेश तिवारी सह संयोजक कमल कस्तूरी समन्वयक आकाश चौकसे  और आयोजन समिति संरक्षक मंडल के सम्मानित सदस्यों और स्टेट प्रेस क्लब के समस्त  सम्मानित  पदाधिकारियों सदस्यों सहयोगियों और शुभचिंतकों ने इस कार्यक्रम के ज़रिये युवाओ और जाज्वल्यमान पत्रकारों को वो मंच प्रदान किया जहाँ जोश और बारीकी ने एक साथ मिलकर पत्रकारिता के उस कल का सपना देखा जब डिबेटमेव जयते को हराकर सत्यमेव जयते का नारा अपना पुराना गौरव प्राप्त कर पायेगा|



इस कार्यक्रम में संगीत लहरियों और पत्रकारी गपशप के बीच रवि चावला, विजय अडीचवाल ,अभिषेक बड़जात्या, राकेश द्विवेदी,  कीर्ति राणा जी , आलोक ठक्कर ,नवनीत शुक्ला , अजय भट्ट, विजय गुंजाल,सुश्री शीतल राय  सोनाली यादव,  मीना राणा और  मंजू नायर ने उस पत्रकारिता के उस भविष्य की कामना की जहाँ इन्साफ के तराज़ू और पत्रकारिता के तराज़ू के बीच कर फर्क मिट जाएगा और वो सुबह आएगी जब हम फिर से कह पायेगे....

जब तोप मुकाबिल हो, अख़बार निकालो



Post a Comment

Previous Post Next Post